Album name :- Sanjh Aur Savera (1964)
Singer :- Asha Bhosle, Mohammed Rafi
Performers :- Meena Kumari, Guru Dutt, Mehmood
Lyricist :- Hasrat Jaipuri
Music :- Shankar Jaikishan

Yahi hai vo saanjh aur savera
Yahi hai vo saanjh aur savera
Jiske liye tadape ham saara jivan bhar
Yahi hai vo saanjh aur savera
Yahi hai vo saanjh aur savera
Yahi hai vo saanjh aur savera
Jiske liye tadape ham saara jivan bhar
Yahi hai vo saanjh aur savera

Janam-janam se andhera tha meri raho me
Ye baat kab thi bhala madbhari fizaao me
Saba bahaar ke dole me tumko laayi hai
Ke Aaj Saari Khudaayi Hai Meri Baanho Me
Chala Gaya Gam Ka Vo Andhera
Milan Hua Pyaar Ka Sunehara
Jiske Liye Tadape Ham Saara Jivan Bhar
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Jiske Liye Tadape Ham Saara Jivan Bhar
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera

Tumhi Chhupe The Meri Zindagi Ke Darpan Me
Tumhaara Pyaar Sameta Tha Apne Daaman Me
Jale Hai Pyaar Ke Dipak Bana Dhua Kaajal
Khile Hai Phul Tamanna Ke Dil Ke Aangan Me
Mila Mujhe Saath Sang Tera
Chamak Utha Hai Nasib Tera
Jiske Liye Tadape Ham Saara Jivan Bhar
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Jiske Liye Tadape Ham Saara Jivan Bhar
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera
Jiske Liye Tadape Ham Saara Jivan Bhar
Yahi Hai Vo Saanjh Aur Savera

फिल्म :- सांझ और सवेरा (1964)
सिंगर :- आशा भोंसले , मोहम्मद रफी
कला :- गुरु दत्त, मीना कुमारी, महमूद
लेखक :- हसरत जयपुरी
संगीत निर्देशक :- शंकर जैकिशन

यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा

जानम-जानम से अंधेरा था मेरी रहो मे
ये बात कब थी भला मदभरी फ़िज़ाव मे
सबा बहार के डोले मे तुमको लाई है
के आज सारी खुदाई है मेरी बाँहो मे
चला गया गम का वो अंधेरा
मिलन हुआ प्यार का सुनेहरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा

तुम्ही च्छूपे थे मेरी ज़िंदगी के दर्पण मे
तुम्हारा प्यार समेटा था अपने दामन मे
जले है प्यार के दीपक बना धुआ काजल
खिले है फूल तमन्ना के दिल के आँगन मे
मिला मुझे साथ संग तेरा
चमक उठा है नसीब तेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
यही है वो सांझ और सवेरा
जिसके लिए तड़पे हम सारा जीवन भर
यही है वो सांझ और सवेरा

Added by

hindilyrics

SHARE